दूध का गिलास – moral story in Hindi

A Glass of Milk moral story

एक बार की बात है, एक गाँव में एक बहुत गरीब लड़का रहता था| वह इतना गरीब था कि उसे अपने स्कूल का शुल्क करने के लिए घर-घर जाकर अखबार बेचने का काम करना पड़ता था।

इसमें उसका पूरा दिन बीत जाता था| एक दिन, जब वह हर रोज की तरह अपना काम कर रहा था, तो उसे बहुत थकान और कमजोरी महसूस होने लगी।

 

वह बिचारा गरीब लड़का भूख से मर रहा था, इसलिए उसने अगले दरवाजे पर जाकर खाना मांगने का फैसला किया।

जब उस गरीब लड़के ने खाना मांगा लेकिन हर बार उसे मना कर दिया, जब तक कि वह एक लड़की के दरवाजे तक नहीं पहुंच गया।

उसने वहां एक गिलास पानी मांगा, लेकिन उसकी खराब हालत देखकर वह लड़की एक गिलास दूध लेकर वापस आ गई।

लड़के ने उससे पूछा कि दूध के लिए उसे कितने पैसे देने है, लेकिन उस लड़की से उससे पैसे लेने से इनकार कर दिया।

बरसों बाद, वह लड़की, जो अब एक बूढ़ी औरत थी, बहुत बीमार पड़ गई थी। वह बहुत सारे डॉक्टर के पास गई, लेकिन कोई भी उसे ठीक नहीं कर पाया।

अंत में, वह शहर के सबसे अच्छे डॉक्टर के पास गई। डॉक्टर ने उसका इलाज करने में महीनों बिताए जब तक कि वह आखिरकार ठीक नहीं हो गई।

अपनी खुशी के बावजूद, उस औरत को डर था कि वह डॉक्टर के बिल का भुगतान कैसे करेगी।

लेकिन, जब अस्पताल ने उन्हें बिल सौंपा, तो उसमें लिखा था, ‘एक गिलास दूध के साथ पूरा भुगतान हो गया।’

असल में वह डॉक्टर वही गरीब लड़का था जिसको उसे एक गिलास दूध पिलाया था|

शिक्षा:

हमारे द्वारा किया गया कोई भी अच्छा काम बेकार नहीं जाता।

 


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.