इनाम और सजा – moral story in Hindi 

tenali rama moral story in hindi

जब तेनाली रामा पहली बार विजयनगर आए, तो वह राजा कृष्णदेवराय से मिलना चाहते थे। वह अपनी पत्नी को मंदिर में छोड़कर, राजा से मिलने के लिए दरबार की ओर चला गया।

जब वह राजा के महल के बाहर पहुँचे, तो उन्हें महल के द्वार पर पहरेदार ने प्रवेश नहीं करने दिया। तेनाली रामा ने उन्हें बताया कि वह राजा से मिलना चाहते है क्योंकि रामा ने सुना था कि राजा कृष्णदेवराय बहुत दयालु और उदार थे।

रामा ने कहा कि चूँकि वह बहुत दूर से आया है, इसलिए उसे राजा से अवश्य भेंट मिलेगी। यह सुनकर पहरेदार ने तेनाली से पूछा कि क्या तुम्हें राजा से उपहार मिलेगा, लेकिन हमें क्या मिलेगा?

लालची ब्राह्मण – moral story in Hindi

तेनाली ने पहरेदार से वादा किया कि जो कुछ भी राजा उन्हें देंगे, वह उनके साथ साझा करेगा। तभी पहरेदार ने उन्हें महल के अंदर जाने की अनुमति दी।

जब वह राजा के दरबार में प्रवेश करने ही वाला थे कि महल के दूसरे पहरेदार ने उन्हें रोक लिया। तेनाली रामा ने उनसे भी वादा किया था कि उन्हें उपहार के रूप में जो भी मिलेगा उसका आधा हिस्सा वह उस पहरेदार को देंगे।

यह सुनकर उसने भी तेनाली को अंदर जाने दिया। जब तेनाली राजा के दरबार के अंदर गया, तो वह उनकी ओर दौड़ा। राजा को क्रोध आया और उसने अपने पहरेदारों को आदेश दिया कि वह उसे पचास कोड़े दे।

हाथ जोड़कर उन्होंने राजा से कहा कि उन्हें यह उपहार उन पहरेदारों के साथ बांटना है जिन्होंने उनकी राजा के दरबार में प्रवेश करने में मदद की थी।

9 best Tenali Raman moral story in Hindi for kids with moral

यह सुनकर राजा ने दोनों पहरेदारों को प्रत्येक को पचास-पचास कोड़े मारने का आदेश दिया। राजा तेनाली रामा की तेज बुद्धि और बुद्धिमत्ता से बहुत प्रभावित हुए।

उसने अपने महंगे कपड़े उपहार में रामा को दिए और अपने शाही दरबारी विदूषक के रूप में ले लिया।

शिक्षा:

हमें कभी भी लालची नहीं होना चाहिए।

tenali rama moral story in hindi


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.