मुर्गा और मुर्गियाँ-moral story in Hindi

एक बार की बात है राजा अकबर कुछ सोच विचार में अपने कक्ष में बैठे थे|

अचानक से उनके मन में खयाल आया कि बीरबल की बुद्धि की परीक्षा लेनी चाहिए|

 उस पर उन्होंने एक चाल खेलकर बीरबल की बुद्धि का परीक्षण करने का फैसला किया। उन्होंने चुपके से अपने दरबारियों को अपने कक्ष में बुलाया और एक अंडा देते हुए अपनी सारी योजना समझा दी

अकबर ने योजना समझाने के बाद सभी दरबारियों से अगले दिन अपने कपड़ों में अंडा छुपाकर लाने को कहा। अगले दिन, अकबर का दरबार लगा| वहां पर सब उपस्थित थे|

मुर्गा और मुर्गियाँ-moral story in Hindi

चोर जो व्यापारी को लूट ले गया-moral story in Hindi

अकबर ने दरबार में सब से कहा कि उसने कल रात एक सपना देखा था कि अपने दरबारियों की ईमानदारी का परीक्षण करने का सबसे अच्छा तरीका उन्हें एक अंडा लाने के लिए कहना है।

इसलिए, वह अपने सभी दरबारियों को शाही तालाब में जाने और एक समय में एक अंडा लाने के लिए कहते है।

वे सबसे कहते हैं कि जो लोगों को वहां से अंडा मिलेगा, वे वफादार होंगे, लेकिन जो नहीं ला पाएंगे वो मेरी प्रति वफादार नहीं होंगे

दरबारी तालाब में जाते हैं और एक समय में अपने हाथ में छुपा हुआ अंडा वापस ले आते हैं।

जल्द ही बीरबल की बारी आती है। वह तालाब में जाते है लेकिन उन्हें वहां एक भी अंडा नहीं मिलता

वह तालाब के आसपास, झाड़ियों और पेड़ों के नीचे भी खोजते है, लेकिन वहां भी कोई अंडा नहीं पाते है।

बीरबल ने इस स्थिति के बारे में बहुत सोचकर दरबार में वापस गए।

वहां पर जाकर उन्होंने दरबारियों को देखा कि वह आपस में मुस्कुरा रहे है

उन्हें देखकर जल्द ही उनको सारी स्थिति स्पष्ट हो गई।

moral story in Hindi

जैसे ही बीरबल अकबर के सिंहासन के पास पहुंचता है, वह एक मुर्गे की आवाज़ निकलता है

अचानक से सब आश्चर्यचकितहो जाते है।

मुर्गा और मुर्गियाँ-moral story in Hindi

अकबर बीरबल से पूछता है कि “आपने ऐसा क्यों किया बीरबल?”

बीरबल ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया कि ये तो भगवान की महिमा है कि केवल मुर्गियाँ ही अंडे देती हैं।

चूंकि सभी दरबारियों ने एक अंडा पेश किया, वे सभी मुर्गियाँ हैं

जैसा कि मैं मुर्गा हूँ, मैं किसी भी अंडे का उत्पादन नहीं कर सकता

कुछ पल के लिए दरबार में सब मौन हो जाते है और जल्द ही अकबर हँसने लगते है|

इस तरह बीरबल ने अपनी बुद्धि को फिर से साबित कर दिया।

शिक्षा: 

बुद्धि और आत्म-विश्वास से कोई भी परीक्षा आसानी से सफल की जा सकती है|

moral story in Hindi


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.