सुई का पेड़ – moral story in Hindi

एक बार की बात है, एक जंगल के पास दो भाई रहते थे। बड़ा भाई छोटे भाई के साथ हमेशा बहुत बुरा व्यवहार करता रहता था|

वह उसका सारा खाना खत्म कर देता था और तो और उसके सभी नए कपड़े भी पहन लेता था।

एक दिन, बड़े भाई ने सोचा कि जंगल में जाकर कुछ जलाऊ लकड़ी लाने और उसे बाजार में बेचने का फैसला किया।

जैसे ही वह जंगल में पहुँचा, उसने पेड़-पौधे को काटता शुरू ही किया था, वहां वह एक जादुई पेड़ से टकराया।

पेंसिल की कहानी- moral story in Hindi

उस पेड़ ने उसे रोकते हुए कहा, “हे दयालु श्रीमान, कृपया मेरी शाखाओं को मत काटो। यदि तुम मुझे छोड़ दोगे और मुझे नहीं काटोगे, तो मैं तुम्हें सोने के सेब दूंगा।”

वह उस पेड़ की बात से सहमत हो गया, लेकिन पेड़ द्वारा दिए गए सेबों की संख्या से वह निराश हो गया। जैसे ही लालच ने उस पर काबू पाया, उसने पेड़ को धमकी दे दी कि अगर उसने उसे और सेब नहीं दिए तो वह उसे पूरी तरह से काट देगा।

जादुई पेड़ ने उसकी बाते सुनकर और गुस्सा होकर अब उसे सेब देने की बजाय, उसपर सैकड़ों छोटी-छोटी सुइयाँ बरसा दी।

वह दर्द से कराहता हुआ जमीन पर लेट गया। सूरज ढलते ही छोटा भाई चिंतित होने लगा था और इसलिए वह अपने बड़े भाई की तलाश में जंगल में चला गया।

उसने अपने भाई को पेड़ के पास दर्द में पड़ा हुआ पाया, जिसके शरीर पर सैकड़ों सुइयां थीं। वह दौड़कर उसके पास गया और बड़े प्यार से एक-एक प्रत्येक सुई को धीरे से हटा दिया।

सारी सुइयां निकलने के बाद, बड़े भाई को उसके दर्द से छुटकारा मिल गया| अब उसने अपने छोटे भाई से उसके साथ बुरा व्यवहार करने के लिए माफी मांगी और बेहतर होने का भी वादा किया।

तेनाली रामा की १५ नैतिक कहानियाँ 

पेड़ भी वहां उनकी सारी बाते सुन रहा था, उसने बड़े भाई के हृदय में परिवर्तन देखा और उन्हें वे सभी सुनहरे सेब दे दिए| 

शिक्षा: 

हमारे लिए दयालु और विनीत होना महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि इससे ही हम पुरस्कृत होते है।

moral story in Hindi


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.