थंबलीना- moral story in Hindi

Thumbelina ki naitik kahani Hindi me

एक बार की बात है एक गांव में एक अत्यंत दयालु औरत रहती थी।एक बार एक जादूगर ने उस औरत को एक बीज दिया।

उसने उस बीज को जमीन में गाड़ दिया और कुछ दिन बाद वह बीज फूटा पौधा बना और फिर एक बहुत ही सुंदर फूल खिला।

महात्मा गौतम बुद्ध-essay in Hindi 

उस फूल में से एक प्यारी सुंदर लड़की निकली। वह बस एक अंगूठे के बराबर थी। इसलिए उसका नाम थंबलीना रखा गया।

वह इतनी प्यारी थी कि एक रात को एक बदसूरत सा मेंढक अपने पुत्र का विवाह थंबलीना से करवाने के इरादे से उसे उठाकर ले गया।

थंबलीना उससे विवाह नहीं करना चाहती थी। इसलिए वह एक भौंरे  के साथ वहां से भाग गई

सर्दी के दिन आए थंबलीना एक चूहे के बिल में रहने लगी। चूहा उसका विवाह अपने पड़ोसी छछूंदर के साथ करवाना चाहता था।

वह वहां से फिर भाग गई। एक दिन उसे एक घायल अबाबील (Swallow Bird) मिली। थंबलीना ने उसके जख्मों को पूछा और उसकी सेवा की।

अबाबील शीघ्र ही थंबलीना की देखरेख में ठीक हो गई। अब वह थंबलीना की सहायता करना चाहती थी।

अबाबील उसे अपनी पीठ पर बैठा कर ले उड़ी और एक बगीचे में एक बड़े से फूल पर पहुंचा दिया

स्वामी दयानंद सरस्वती- essay in Hindi 

वहां थंबलीना की मुलाकात फूलों के राजकुमार से हुई। थंबलीना की सुंदरता से मुग्ध होकर राजकुमार ने उसके सामने विवाह का प्रस्ताव रखा।

थंबलीना ने उसके विवाह के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और दोनों खुशी-खुशी रहने लगे।

Thumbelina moral story in Hindi

 


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.