सिंडरेला- moral story in Hindi

Cinderella ki kahani Hindi me 

एक बार की बात है सिंडरेला नाम की एक लड़की, अपनी सौतेली मां और दो सौतेली बहनों के साथ रहती थी|

वह दिन भर घर के सारे काम करती थी, फिर भी उसे डांट सुननी पड़ती थी और तो और उसे भरपेट खाना भी नहीं मिलता था|

एक दिन राजा ने अपने महल में नृत्य का आयोजन रखा| शहर की विवाह योग्य सभी लड़कियां इस नृत्य के लिए आमंत्रित थी|

असली माँ – moral story in Hindi 

सिंडरेला की सौतेली बहने भी इस आमंत्रण को पाकर बहुत खुश थी और खुशी के मारे नाचने लगी|

सिंडरेला ने उनके लिए बहुत सुंदर कपड़े बनाए और दोनों बहनों को बड़े प्यार से सजा कर आयोजन के लिए तैयार किया|

दोनों बहने सज कर आयोजन के लिए गई| उनके जाने के पश्चात वहां पर एक परी आई| 

 

सिंडरेला की भी आयोजन में जाने की इच्छा को देखकर परी ने उसके लिए बहुत सुंदर कपड़े, बेहद सुंदर सेंडल और एक सुनहरी गाड़ी मंगवा कर- कहा, “तुम भी इस नृत्य आयोजन में जाओ, पर याद रखना रात के 12:00 बजे से पहले ही लौट आना| अन्यथा वहीं पर सब कुछ लुप्त हो जाएगा|”

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई- essay in Hindi 

सिंडरेला इतनी सुंदर लग रही थी कि वहां पर सभी लोग उसे देखते ही रह गए| जब राजकुमार ने उसे देखा तो उसने सिर्फ सिंडरेला के साथ ही नृत्य किया| 

नृत्य करते-करते सिंडरेला को 12:00 बजने का आभास नहीं हुआ और जैसे ही 12:00 बजे सिंडरेला बेतहाशा होकर भागी| 

जल्दी-जल्दी में उसके एक पैर की सैंडल वही छूट गई|  राजकुमार सिंडरेला को पाने के लिए बेचैन था| 

इसके लिए राजकुमार ने राज्य के हर घर में उस सैंडल को पहनवाकर देखा और अंत में सिंडरेला के पैर में वह सही आ गई|  राजकुमार का विवाह सिंडरेला से हो गया और दोनों सुख पूर्वक रहने लगे| 

शिक्षा:

जो लोग अच्छे होते है और सबका अच्छा सोचते है उनके साथ कभी भी बुरा नहीं हो सकता| 

Cinderella short moral story in Hindi


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.