लालची चूहा-moral story in Hindi

lalchi chuha naitik kahani Hindi me

एक बार की बात है, एक चूहा भूक के कारण, खाने की तलाश में इधर-उधर भटक रहा था| खाने की तलाश में वह एक घर में घुस गया|

वहां उसे मक्के के दानों से भरी एक टोकड़ी मिली| उसे देखकर वह बहुत खुश हुआ| वह उस टोकड़ी के सारे मक्के खाना चाहता था|

इसके लिए उसने टोकड़ी में एक छोटा-सा छेद कर दिया और टोकड़ी में घुस गया| उसने वहां बहुत सारे मक्के खाये|

अब उसका पेट भर चूका था और वह बहुत खुश था| अब वह टोकड़ी से बहार निकलना चाहता था| उसने उस छोटे से छेद से निकलने की कोशिश की|

लेकिन वह उस छेद से नहीं निकल पाया क्यूंकि उसका पेट पूरा भरा हुआ था| चूहे ने फिर से निकलने की कोशिश की लेकिन उसका कोई भी फायदा नहीं हुआ|

चूहा बिचारा हार कर रोने लगा| तभी पास से एक खरगोश जा रहा था| उसने वहां पर चूहे की रोने की आवाज सुनी|

शेर की चमड़ी में गधा-moral story in Hindi

जब खरगोश ने टोकड़ी में देखा तो उसे वहां पर चूहा रोते हुए दिखा| उसने चूहे से पूछा, “मेरे दोस्त, तुम को रो रहे हो?”

यह सुनकर चूहा बोला, “मैंने एक छोटा सा छेद किया था टोकड़ी में घुसने के लिए| लेकिन अब मैं इस छेद से निकल नहीं पा रहा|”

चूहे की बाते सुनकर खरगोश हंसने लगा और उससे बोला कि ऐसा इसलिए हुआ है क्यूंकि तुमने बहुत सारा खा लिया है|

तुम्हे निकलने का इंतज़ार जब तक करना होगा तब तक तुम्हारा पेट सुकड़ नहीं जाता| और यह कहकर खरगोश हँसते हुए वहां से चला गया|

टोकड़ी में ही चूहा सो गया| जब वह अगले दिन उठा तब तक उसका पेट खाली हो चूका था| जिसके कारण उसका पेट भी सुकड़ गया था|

लेकिन चूहा अब और मक्के के दाने खाना चाहता था| इसलिए वह फिर से मक्के के दानों को खाता गया| फिर से उसका पेट पूरा भर गया|

चूहे ने सोचा, चलो मैं कल इस टोकड़ी से बहार निकल जाऊँगा| लेकिन आज उस टोकड़ी के पास से एक बिल्ली जा रही थी|

बिल्ली को टोकड़ी के पास आते ही चूहे की गंध आने लगी| उसने जल्दी से टोकड़ी में देखा तो उसे वह एक चूहा दिखा|

बिल्ली ने जल्दी से चूहे को उसकी पूंछ से उठाकर टोकड़ी से निकाल लिया और उसे मारकर खा गई| अपने लालच के कारण चूहे ने अपनी जान खो दी|

शिक्षा:

हमे कभी भी किसी भी चीज़ का लालच नहीं करना चाहिए|

The greedy mouse moral story in Hindi


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *